Connect with us

शहर

5 क्राउडफंडेड उत्पाद जो वास्तव में प्रचार पर वितरित किए गए

Published

on

Photo: Shutterstock

लोरेम इप्सम डोलोर बैठो एमेट, अभिषेक एडिपिसिकिंग एलिट, सेड डो ईस्मोड टेम्पोर इंसिडंट यूटी लेबर एट डोलोर मैग्ना एलिका। यूटी एनिम विज्ञापन मिनिम वेनियाम, क्विस नथनरूड एक्सरिटेशन उल्लामको लेबरिस निसी यूटी एलिक्विप एक्स ई कमोडो कॉन्सेक्विट ।

निमो एनीम इप्सम वोलुप्टेम क्विवुटास बैठो एस्पर्नटर ऑट ओडिट ऑट फ्यूगिट, सेड क्विया कॉन्सेकुंटुर मैग्नी डोलोरेस ईओएस क्वि राशन वोलुप्टेम सेक्वि नेसियूट ।

वेरो ईओएस एट एकुसामस एट में आइस्टो ओडिओ डिग्निसिमोस ड्यूसिमस क्वि ब्लैंडिटिस प्रासेन्टियम वोलुप्टाटम डेलेनिटी एट क्यूक करप्टी quos dolores एट क्वास छेड़छाड़ को छोड़कर उड़ी सिंट ऑक्सीकेटी कामदेवता गैर भविष्य, दोषी डेसेरंट मोलिएटिया एंमीमी में सिमिलिक सनट

क्विस ऑटेम वेल यूम आईयूरे रिप्रेंडरिट क्वि में ईए वोलप्टेट वेलिट एसे क्वाम निहिल स्क्विटुर, वेल इलम क्वि डोलोरेम यूम फ्यूजिएट यथा वोलुप्टानला पैरिटा परिअल ।

टेम्पोरिबस ऑटेम क्विबुडैम एट ऑट ऑफिसिस डेबिट्स ऑट रिरम की आवश्यकता होती है कि एसएईईईटीटी यूटी एट वोलप्टेस डिप्रेंडाइ सिंट एट छेड़छाड़ गैर-रिप्रेजेंट करता है। इटाक इयरम रेरम एचिक टेनेटर ए सैपिएंटे डिइलस, यूटी ऑट रिकिंडिस वोलुप्टैटिबस मायोरेस उर्फ कॉन्सेक्वाटर ऑट परफेरेंडिस डोलोरिबस एस्पेरिओरेस रेपेल्ट।

लोरेम इप्सम डोलोर बैठो एमेट, अभिषेक एडिपिसिकिंग एलिट, सेड डो ईस्मोड टेम्पोर इंसिडंट यूटी लेबर एट डोलोर मैग्ना एलिका। यूटी एनिम विज्ञापन मिनिम वेनियाम, क्विस नथनरूड एक्सरिटेशन उल्लामको लेबरिस निसी यूटी एलिक्विप एक्स ई कमोडो कॉन्सेक्विट ।

“ड्यूस ऑट इर्योर डोलर में रिटेंडरिट में वोलप्टेट वेलिट एसे सिलम डोलोर ईयू फ्यूजिएट”

निमो एनीम इप्सम वोलुप्टेम क्विवुटास बैठो एस्पर्नटर ऑट ओडिट ऑट फ्यूगिट, सेड क्विया कॉन्सेकुंटुर मैग्नी डोलोरेस ईओएस क्वि राशन वोलुप्टेम सेक्वि नेसियूट ।

एट हारम क्विडम रीरम फेसलिस एस्ट एट तेजी से अलग। नाम लाइबेरो टेम्पोर, सह सोलुटा नोबिस एस्ट एलिगेंडी ऑप्टिओ क्यूम निहिल बाधा यथास्थिति शून्य से आईडी quod मैक्सिमे प्लेसेर पोसिमस, ओनिस वोलुप्टस ग्रहण nd, omnis dolor repellendus ।

नुला परिएतुर। सिवाय एके हुए सिंट क्यूपिडाट नॉन प्रोडेंट, कल्प में कल्पित क्वि ऑफफिसिया डेसेरंट मोलिट एनीम आईडी एस्ट लेबरम।

सेड यूटी पर्स्पिकियाटिस अनडे ओमनीस इस्ते नेटस एरर सिट वोलप्टेम एक्यूस्टीम डोलोरेम लॉस्टिम, टोटम रेम एपेरियम, ईक इप्सा क्वा एब इलो आविष्कारक वेरिटाटिस एट अर्ध आर्किटेक्टो बीटा विटा डिक्टा संट एक्सप्लिकाबो।

नेक पोर्रो क्विस्क्वम एस्ट, क्वि डोलोर इप्सम क्वि डोलोर बैठो आम, अभिषेक, एडिप्सी वेलिट, सेड क्वि नॉन न्यूक्वाम ईआईयू मोदी टेम्पोरा इनिडंट यूटी लेबर एट डोलोर मैग्नम एलिक्यूम क्वारट वोलप्टेम । यूटी एनिम विज्ञापन मिनीमा वेनियाम, क्विस नोस्ट्रम र्जेक्टेशनम उलाम कॉर्पोरियस सुसिपिट लेबरिओसम, निसी यूटी एलिक्विड एक्स ईए कॉमोडी कॉन्सेक्वाटर ।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

शहर

नए सीजन 8 चलने मृत ट्रेलर समय में आगे चमक

Published

on

By

Photo: Shutterstock

नेक पोर्रो क्विस्क्वम एस्ट, क्वि डोलोरेम इप्सम क्वि डोलोर बैठो एमेट, अभिषेक, एडिपिसी वेलिट, सेड क्वि नॉन न्यूक्वाम ईआईयू

Continue Reading

शहर

पूरे देश में बिजली की स्थिति ”बहुत गंभीर” : अरविंद केजरीवाल

Published

on

By

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने सोमवार को कहा कि पूरे देश में बिजली की स्थिति (Power Crisis) ‘बेहद नाजुक’ है, जबकि उनके कैबिनेट सहयोगी सत्येंद्र जैन ने दावा किया कि दिल्ली सरकार को महंगी गैस-आधारित और उच्च बाजार दर पर बिजली की खरीद करनी पड़ती है.

नई दिल्ली: 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने सोमवार को कहा कि पूरे देश में बिजली की स्थिति (Power Crisis) ‘बेहद नाजुक’ है, जबकि उनके कैबिनेट सहयोगी सत्येंद्र जैन ने दावा किया कि दिल्ली सरकार को महंगी गैस-आधारित और उच्च बाजार दर पर बिजली की खरीद करनी पड़ती है, क्योंकि एनटीपीसी (NTPC) ने शहर में बिजली की आपूर्ति आधी कर दी है. केजरीवाल ने कहा कि बिजली संकट से निपटने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं और उनकी सरकार नहीं चाहती कि कोई भी ”आपातकालीन स्थिति” पैदा हो. उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा, ‘‘पूरे देश में स्थिति बहुत गंभीर है. कई मुख्यमंत्रियों ने इसके बारे में केंद्र सरकार को लिखा है. सभी मिलकर स्थिति को सुधारने की कोशिश कर रहे हैं.” इससे पहले दिन में, बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली सरकार को महंगी गैस आधारित बिजली के साथ-साथ उच्च बाजार दर पर हाजिर खरीद पर निर्भर रहना पड़ता है, क्योंकि एनटीपीसी ने शहर में बिजली की 4,000 मेगावाट की सामान्य आपूर्ति को घटाकर आधा कर दिया है. 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने सोमवार को कहा कि पूरे देश में बिजली की स्थिति (Power Crisis) ‘बेहद नाजुक’ है, जबकि उनके कैबिनेट सहयोगी सत्येंद्र जैन ने दावा किया कि दिल्ली सरकार को महंगी गैस-आधारित और उच्च बाजार दर पर बिजली की खरीद करनी पड़ती है, क्योंकि एनटीपीसी (NTPC) ने शहर में बिजली की आपूर्ति आधी कर दी है. केजरीवाल ने कहा कि बिजली संकट से निपटने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं और उनकी सरकार नहीं चाहती कि कोई भी ”आपातकालीन स्थिति” पैदा हो. उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा, ‘‘पूरे देश में स्थिति बहुत गंभीर है. कई मुख्यमंत्रियों ने इसके बारे में केंद्र सरकार को लिखा है. सभी मिलकर स्थिति को सुधारने की कोशिश कर रहे हैं.” इससे पहले दिन में, बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली सरकार को महंगी गैस आधारित बिजली के साथ-साथ उच्च बाजार दर पर हाजिर खरीद पर निर्भर रहना पड़ता है, क्योंकि एनटीपीसी ने शहर में बिजली की 4,000 मेगावाट की सामान्य आपूर्ति को घटाकर आधा कर दिया है.

बिजली मंत्री ने कहा, ‘‘केंद्र ने सस्ती गैस का कोटा समाप्त कर दिया है. हमें इसे खरीदना है और उत्पादन लागत 17.50 रुपये है, जो दीर्घकालिक नहीं है. इतना ही नहीं, हमें संकट के कारण 20 रुपये प्रति यूनिट की उच्च दर पर बिजली खरीदनी पड़ेगी.”

जैन ने कहा कि केंद्र को कोयला संकट की बात माननी चाहिए और उसे इनकार की मुद्रा के बजाय समस्या से निपटना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने केंद्र को पत्र लिखा है. पंजाब भी बिजली कटौती का सामना कर रहा है.

Continue Reading

शहर

‘उन्होंने ऑक्सीजन संकट भी नहीं स्वीकारा था’ : कोयले की कमी पर दिल्ली के मंत्री ने की मोदी सरकार की खिंचाई

Published

on

By

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोयले की कमी पर बिजली मंत्री का गैरजिम्मेदाराना रवैया, BJP सरकार नहीं चला पा रही है

नई दिल्ली: 

कोयले की किल्लत को लेकर दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया न आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि दिल्ली में अगर 24 घंटे का स्टॉक बचा है तो हमें भी पावर कट प्लान करना पड़ेगा. कई पावर प्लांटों में कोयले की किल्लत है और प्लांट बंद भी हुए हैं. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री ने कोयले की किल्लत को खारिज़ किया है और मुख्यमंत्री के पत्र लिखने पर आपत्ति जताई है. केंद्रीय मंत्री गैर ज़िम्मेदारी के साथ कोयले की किल्लत पर बयान दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि BJP से केंद्र सरकार चल नहीं रही है, इनसे देश नहीं चल रहा है और जिम्मेदारी से भागने वाले काम किए जा रहे हैं.

मनीष सिसोदिया ने कहा कि राज्यों ने ऑक्सीजन की किल्लत के बारे में केंद्र को आगाह किया था, लेकिन केंद्र ने कोई ज़िम्मेदारी नही ली. आज कोयले की किल्लत पावर क्राइसिस बन सकती है. केंद्र द्वारा आंखें बंद करने की नीति घातक साबित हुई है. कोयले की किल्लत दरअसल बिजली की किल्लत है. यह देश को गड्ढे में डालने जैसा है. पंजाब, उत्तरप्रदेश, राजस्थान और दिल्ली की सरकार केंद्र से गुहार लगा रही है लेकिन केंद्र सरकार कोयले की किल्लत को हल नहीं करना चाहती है.

उन्होंने कहा कि केंद्र राज्यों को झूठा साबित करने में जुट गया है. सरकारें सहयोग से चलती हैं, केंद्र सहयोग का रवैया अपनाए. कुछ दिन पहले जब ऑक्सीजन क्राइसिस थी, डॉक्टर, आम लोग जब बोल रहे थे, राज्य सरकारें बोल रहीं थीं, तब केंद्र कह रहा था कि यह झूठ है. तब हजारों लोगों को जान गंवानी पड़ी क्योंकि केंद्र ने कोई जिम्मेदारी नहीं ली.

मनीष सिसोदिया ने कहा कि पिछले 3-4 दिन से देशभर के सीएम केंद्र को कोयला क्राइसिस को लेकर आगाह कर रहे हैं. इस सबके बीच आज केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्राइसिस की आशंका को खारिज किया, उन्होंने कहा कि दिल्ली के सीएम को चिट्ठी नहीं लिखनी चाहिए. मुझे दुःख हुआ कि केंद्रीय मंत्री इतनी गैरजिम्मेदाराना एप्रोच लेकर चल रहे हैं, ऐसे समय में जबकि देशभर के सीएम केंद्र को आगाह कर रहे हैं. ऐसे समय में वे कह रहे हैं कि कोई क्राइसिस ही नहीं है.

Continue Reading
Advertisement

Trending